होम

Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

सोनिया भक्त कांग्रेसी जो चुनावी राम भक्त बन रहे थे उनकी बाबर भक्ति सामने आ गयी है: वीडी शर्मा

भोपाल.
22 जनवरी 2024 ये वे तारीख है जब प्रभु राम अपने मंदिर में विधि विधान से विराजित होंगे। 5 शताब्दियों से प्रतिक्षा वाली यह घड़ी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने देश के साथ जब से साझा की है तब से सनातन विरोधी कांग्रेसियों में खलबली मची है। जो सोनिया भक्त कांग्रेसी चुनावी राम भक्त बन रहे थे उनका बाबर के प्रति प्रेम बाहर निकलने लगा है। कभी कांग्रेसी प्रभु राम के होर्डिग की शिकायत करते है तो कभी ‘‘बाबरी मस्जिद की शहादत’’ की पीडा को बाहर लाते है।

कांग्रेस का यह चरित्र मुंह में राम बगल में छुरी को चरितार्थ कर रहा है। सोनिया गांधी के इशारे पर कांग्रेस मीडिया विभाग के अध्यक्ष का बयान कांग्रेस का मुगलों के प्रति प्रेम और सनातन के प्रति घृणा को प्रदर्शित करता है। प्रियंका गांधी आज दमोह के दौर पर है उन्हें देश के हिन्दुओं से सार्वजनिक माफी मांगनी चाहिए। यह बात भारतीय जनता पार्टी के प्रदेष अध्यक्ष व सांसद विष्णुदत्त शर्मा ने भाजपा मीडिया सेंटर में पत्रकारों से चर्चा करते हुए कही।

शर्मा ने कहा कि चुनाव आएंगे, जाएंगे राजनीति होती रहेगी पर आस्थाओं के साथ खिलवाड़ और मजाक देश स्वीकर नहीं करेगा। जिन कांग्रेसियों के मन में और जुबान पर आज भी ‘बाबरी ढांचा शहीदी’ की पीड़ा है, उनका चुनावी राम भक्त बनना केवल और केवल पाखंड है। कांग्रेस की असली दिक्कत प्रभु श्रीराम जन्मभूमि मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा से और राम से है। कांग्रेस को घृणा सनातन से तो थी ही, अब नफरत का स्तर इतना बढ़ गया है कि कांग्रेस को राम मंदिर के चित्र वाले होर्डिंगों से भी पीड़ा होने लगी है।

ऐसा क्यों है जब भी राम मंदिर निर्माण से जुड़ा कोई सुखद कार्य होने लगता है कांग्रेस का दर्द बढ़ जाता है। याद रहे कि बाबरी विध्वंस के बाद भाजपा की चार राज्य सरकारों को तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने बर्खास्त किया था, जिसमें मध्य प्रदेश की भाजपा सरकार भी शामिल थी, जिसे बाद में सुप्रीमकोर्ट ने असंवैधानिक बताया था। तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने अयोध्या में रामजन्मभूमि पर बाबरी मस्जिद को बनाने की बात कही थी, यह निर्णय लेने वाली सरकार में सनातन विरोधी कमलनाथ प्रमुखता से शामिल थे।

यह तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के कार्यकाल का असर है और हमारी हिंदुत्व के विचारों की विजय कि बाबरी के पैरोकार कमलनाथ आज राम मंदिर को सनातन का मंदिर बता रहे हैं। कांग्रेस कहती है भगवान राम देश के है, बिल्कुल सही है फिर कांग्रेस को भी भगवान राम को होर्डिंग लगाने चाहिए लेकिन अगर उनका राम प्रेम छद्म है और बाबर प्रेम सर्वापरी है, तो वह जाकर बाबर के होर्डिंग लगाये।  

चुनावी साल में वेष बदलकर घूम रहे सनातनी विरोधी

विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि इतिहास साक्षी है, जब जब राक्षसी प्रवृत्तियां, सनातन विरोधी ताकतें अपने पापाचार को बढ़ाने की कोशिश करती हैं, तो वह छलपूर्वक वेष बदलकर सामने आती हैं, रावण जब माता सीता का हरण करने आया तो साधु बनकर आया था और जब कसाब भी मुंबई हमले के लिये आया तो हाथ पर कलावा बांधकर आया था। यह सब सनातनी विरोधी थे, जो सनातन को मिटाने की धारणा से आये थे। यही वर्तमान में हो रहा है। अब चुनावी साल में सनातन को मिटाने की धारणा रखने वाले, हिन्दुओं से नफरत करने वाले कांग्रेसी, छद्म सनातनी वेष धारण कर के घूम रहे हैं।

64 हजार 523 बूथों पर कार्यकर्ता पहुंचाएंगे प्रधानमंत्री मोदी जी का पत्र

शर्मा ने कहा कि 29 अक्टूबर को प्रदेश के 64 हजार 523 बूथों पर भाजपा के 41 लाख कार्यकर्ता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के मन की बात कार्यक्रम को सुनकर प्रदेश को लिखी गई उनकी स्नेहिल चिट्ठी को घर-घर तक पहुंचाने का काम करेंगे। मध्यप्रदेश की जनता के मन में पीएम मोदी हैं और पीएम मोदी जी के मन में मध्यप्रदेश की साढ़े नौ करोड़ जनता है।

ये भी पढ़ें...

error: Content is protected !!