होम

Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

चॉकलेट खाने वाले हो जाएं अलर्ट, सीसा-कैडमियम की मात्रा ने बढ़ाई टेंशन

नई दिल्ली

अगर आपको चॉकलेट पसंद है तो ये खबर आपके लिए है। कंज्यूमर रिपोर्ट के मुताबिक चॉकलेट प्रोडक्ट्स में सीसा और कैडमियम की ज्यादा मात्रा पाई गई है। इसके साथ ही Hershey ब्रांड को चॉकलेट प्रोडक्ट्स में मेटल्स की मात्रा कम करने को कहा गया है। गैर-लाभकारी उपभोक्ता समूह कंज्यूमर रिपोर्ट के मुताबिक उसके वैज्ञानिकों ने अलग-अलग चॉकलेट निर्माताओं के 48 उत्पादों में से 16 का परीक्षण किया, जिनमें सीसा, कैडमियम या दोनों के हानिकारक स्तर थे।

बड़े-बड़े ब्रांड के प्रोडक्ट शामिल: इस रिपोर्ट में कहा गया है कि जिन चॉकलेट प्रोडक्ट्स में ज्यादा मेटल की मात्रा पाई गई उनमें वॉलमार्ट, Hershey, ड्रोस्टे, नेस्ले और स्टारबक्स जैसी कंपनियां शामिल हैं। कंज्यूमर रिपोर्ट में कहा गया है कि केवल मिल्क चॉकलेट बार में मेटल की मात्रा लिमिटेड है।

Hershey को मिली सलाह: न्यूज एजेंसी रॉयटर्स ने कंज्यूमर रिपोर्ट्स के खाद्य नीति निदेशक ब्रायन रॉनहोम के हवाले से कहा कि लीडिंग और लोकप्रिय ब्रांड के रूप में Hershey को अपनी चॉकलेट को सुरक्षित बनाने के लिए प्रतिबद्ध होना चाहिए। समूह ने दुनिया के सबसे बड़े चॉकलेट निर्माता Hershey से अपनी चॉकलेट में भारी धातुओं के स्तर को कम करने को कहा है। इससे पहले पिछले साल दिसंबर में भी अमेरिका स्थित गैर-लाभकारी उपभोक्ता समूह ने बताया था कि 28 परीक्षण किए गए डार्क चॉकलेट बार में से 23 में ज्यादा सीसा या कैडमियम की मात्रा थी।

क्या होता है नुकसान: सीसा और कैडमियम की मात्रा ज्यादा रहने का नुकसान सेहत को होता है। इससे तंत्रिका तंत्र संबंधी, प्रतिरोधी तंत्र की कमजोरी, किडनी को होने वाले नुकसान आदि जैसी कई समस्याएं होने की आशंका रहती है। गर्भवती महिलाओं और बच्चों में यह जोखिम अधिक होता है।

 

ये भी पढ़ें...

error: Content is protected !!