होम

Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

टीआई पटेल रोड सेल में खेल रहा लाखों का खेल खुलने के साथ ही अवैध कमाई का जरिया बना रामपुर बटुरा मेगा प्रोजेक्ट

राहुल सिंह राणा/शहडोल। एसईसीएल सोहागपुर कोयलांचल को नया जीवन देने के लिए तमाम मशक्कत के बाद शुरू किया गया रामपुर बटुरा मेगा प्रोजेक्ट एसईसीएल की अपेक्षाओं और उद्देश्यों को पूरा कर पाने में किस हद तक सफल है या होगा यह तो कंपनी ही जाने लेकिन इस मेगा प्रोजेक्ट से यहां कार्य करने वाले तकनीकी निरीक्षक सी एल पटेल की चांदी जरूर हो गई है। कोयला खदानों से रोड सेल के माध्यम से बाहर भेजा जाने वाला कोयला हालांकि सभी खदानों के टेक्निकल इंस्पेक्टर्स की अवैध कमाई का जरिया है लेकिन रामपुर बटुरा मेगा प्रोजेक्ट जो न सिर्फ नया है बल्कि प्रचुर भंडार वाला प्रोजेक्ट है इसमें कंपनी के अधिकारी कर्मचारियों की स्वार्थ परता परवान चढ़ना एसईसीएल व सोहागपुर कोयलांचल प्रबंधन के लिए काफी घातक साबित हो सकता है।

शुरू होते ही लगा ग्रहण
सोहागपुर एरिया की अधिकांश खदाने एक एक कर बंद होने के कारण कोयला उत्पादन में लगातार कमी और मेन पावर के लिए काम की कमी को देखते हुए कोयलांचल प्रबंधन द्वारा सालो साल मेहनत कर रामपुर बटुरा मेगा प्रोजेक्ट की रूप रेखा तैयार की गई और एसईसीएल से स्वीकृति मिलने पर सालो बाद रामपुर मेगा प्रोजेक्ट अस्तिव में आया और इसके साथ ही ग्रहण का शिकार हो गया। तकनीकी निरीक्षक एवं अन्य दलाल टाईप नेताओं ने अपना ऐसा माया जाल फैलाया कि शुरूआती दौर में ही यह प्रोजेक्ट भ्रष्टाचार और अवैध वसूली का माध्यम बन कर रह गया है।

गुंडो का टीआई का संरक्षण
गौरतलब है कि पिछले महीने रामपुर प्रोजेक्ट में कोयला परिवहन करने वाले ट्रक चालको, संचालको ने लामबंद होकर परिवहन का कार्य बंद कर दिया था। परिवहन कर्ताओं का आरोप है कि टेक्निकल इंस्पेक्टर तो प्रति गाड़ी पैसा वसूलता ही है स्थानीय गुंडे भी गुंडा टैक्स वसूलने पहुंच जाते है जिसके कारण काम कर पाना बहुत कठिन है। उनका यह भी आरोप है कि स्थानीय रहवासियों की गुंडा गर्दी और प्रबंधन के लोगो द्वारा परिवहन कर्ता विषेष को उपकृत किये जाने की परंपरा ने परिवहन कर्ताओं की मुष्किलों को बढ़ा दिया है और इसमें टेक्निकल इंस्पेक्टर सीएल पटेल की महत्वपूर्ण भूमिका बताई जाती है। आरोपित किया गया है कि वह अपने चहेते ट्रांसपोर्टरांे को बेजा लाभ दिलाने के लिए अन्य ट्रांसपोर्टरो को जानबूझ कर प्रताड़ित करता है।

अंत काल में लूटम लूट
सूत्रो के हवाले से मिली जानकारी के अनुसार रिटायरमेन्ट की कगार पर खड़े टेक्निकल इंस्पेक्टर पटेल द्वारा थर्ड ग्रेड कोयले के डीओ पर फर्स्ट ग्रेड कोयले की निकासी करवा कर कोयला परिवहन कर्ता एवं खरीददारों से अतिरिक्त कमाई करते हुए न सिर्फ एसईसीएल को अच्छा खासा चूना लगाया जा रहा है बल्कि रिटायरमेंन्ट के पहले अधिकाधिक धन संग्रह करने में जुटा हुआ है। उसके इस अवैध कार्य में एसईसीएल के ही कुछ अधीनस्थ कर्मचारियों का सहयोग और उपक्षेत्रीय मैनेजमेन्ट के अधिकारियों का खुला संरक्षण प्राप्त है।

वही इस संबंध में जानकारी के लिए महाप्रबंधक सोहागपुर क्षेत्र पी. कृष्णा को उनके मोबाईल नंबर 9425533401 पर संपर्क किया गया तो उनका फोन रिसीव नहीं हुआ।

ये भी पढ़ें...

error: Content is protected !!