होम

Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

अपराध की दुनिया का बेताज बादशाह “बाबा” गिरफ्तार

• जिले की तीन थानों की पुलिस ने दबोचा

• 8 साल से था कागजो में फरार

शहडोल। 12 वी पास अपराध की दुनिया के “बाबा” को जिले के तीन थानों की पुलिस ने आठ साल पुराने प्रकरण में गिरफ्तार किया है। बुढ़ार निवासी पूर्व जिला पंचायत उपाध्यक्ष एवं अमर प्रेम ट्रांसपोर्ट के मालिक किशोरीलाल चतुर्वेदी जिसे “बाबा” के नाम से भी जाना जाता है. जिसके विरुद्ध वर्ष 2016 में धोखाधड़ी का मामला दर्ज हुआ था, तब से वह फरार था। उसकी गिरफ्तारी के लिए तत्कालीन पुलिस अधीक्षक द्वारा 5000 रुपये का इनाम भी घोषित किया गया था।
प्रकरण के संबंध में ब्यौहारी थाना प्रभारी मोहन पड़वार ने बताया कि 18 अप्रैल 2016 को ट्रक क्रमांक एमपी 18 व्ही 3357 का चालक घनश्याम मेहरा आमाडाड़ से अवैध कोयला लोड कर बुढ़ार लाया था। बुढ़ार से अमर प्रेम ट्रांसपोर्ट का मैनेजर अनिल कुमार शर्मा और अमर प्रेम ट्रांसपोर्ट बुढ़ार का मालिक एवं ट्रक मालिक किशोरीलाल चतुर्वेदी फर्जी बिल्टी के माध्यम से उक्त अवैध कोयले को सतना भेज रहा था। इस बात की सूचना पर थाना ब्यौहारी में ट्रक को रोककर उसमें लोड कोयले की बिल्टी की जांच करने पर बिल्टी फर्जी पाई गई थी। इस प्रकार फर्जी बिल्टी तैयार कर अवैध रूप से कोयले का सतना परिवहन करना पाए जाने पर अपराध क्रमांक 254/16 धारा 420, 467, 468, 471, 34 ताहि., 21(4) खनिज अधिनियम का अपराध पंजीबद्ध कर प्रकरण को विवेचना में लिया गया था। प्रकरण की विवेचना में आरोपी ट्रक चालक घनश्याम मेहरा और अमर प्रेम ट्रांसपोर्ट बुढ़ार के मैनेजर अनिल कुमार शर्मा को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। इसी मामले में बीते रविवार की देर रात लोकेशन के आधार पर ब्यौहारी, बुढ़ार और सोहागपुर थाने की पुलिस ने संभागीय मुख्यालय के कोनी तिराहा के पास घेराबंदी किया। उसी दौरान रीवा की ओर से किशोरीलाल उर्फ़ “बाबा” अपने निजी वाहन से शहडोल की तरफ आ रहा था। जिसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया, इसके बाद उसे ब्यौहारी थाना ले जाया गया।

किसी ने नहीं की थी गिरफ्तारी

पूर्व जिला पंचायत उपाध्यक्ष एवं अमर प्रेम ट्रांसपोर्ट बुढ़ार का मालिक किशोरीलाल चतुर्वेदी उर्फ़ “बाबा” की फरारी यह साबित करती है कि बीते आठ वर्षों के दौरान उसने वर्ष 2018 में अनूपपुर जिले के विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 86 कोतमा से सपाक्स पार्टी के उम्मीदवार के तौर पर चुनाव भी लड़ा था। इसके अलावा किशोरीलाल चतुर्वेदी बखूबी अपनी व्यवसायिक गतिविधियों को संचालित करता रहा है और पुलिस उसे फरार बताकर हाथ पर हाथ धरे बैठी रही। पुलिस अधीक्षक कुमार प्रतीक के निर्देशन में अब पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है।

अपराध की दुनिया का “बाबा” हुआ बीमार…

तो एसी में रहने वाला “बाबा” जेल की गर्मी झेलकर बीमार हो गया, लिहाजा पुलिस मेडिकल कॉलेज शहडोल में भर्ती कर उसका उपचार करा रही है। गौरतलब है कि लगभग 70 साल के पंडित किशोरी लाल चतुर्वेदी को ब्लड प्रेशर, शुगर तथा अन्य कई बीमारियों की दवाइयां बीते कई वर्षों से चल रही हैं। फिलहाल अपराध की दुनिया के बाबा को पुलिस अभिरक्षा में शहडोल स्थित बिरसा मुंडा मेडिकल कॉलेज में लाया गया है, जहां जनरल वार्ड में भर्ती कर उनका चिकित्सक स्वास्थ्य परीक्षण कर रहे हैं, संभवत आने वाले दिनों में जब तक उनका स्वास्थ्य ठीक नहीं हो जाता, तब तक पंडित किशोरी लाल चतुर्वेदी पुलिस की निगरानी में मेडिकल कॉलेज में डॉक्टर के बीच ही रहेंगे।

डी के ने दिया था संरक्षण

बता दें कि, अपराध की दुनिया के “बाबा” यानि पंडित किशोरीलाल चतुर्वेदी पिता स्व. लक्ष्मण प्रसाद चतुर्वेदी 70 वर्ष निवासी वार्ड क्रमांक 13 सिंधी बाजार बुढ़ार के विरुद्ध वर्ष 1979 से 2022 तक थाना बुढ़ार में 15, अमलाई में 2, ब्यौहारी में 1, गोविंदगढ़ में 5 तथा रायपुर करचुलियान में 3 अपराधिक मामले दर्ज हैं। सूत्रों की माने तो पूर्व में पदस्थ रहे शहडोल पुलिस जोन के एक उच्चाधिकारी का संरक्षण प्राप्त होने के कारण थाने की पुलिस के हाथ “बाबा” के गिरहबान तक नहीं पहुंच पा रहे थे। अवैध गतिविधियों से जुड़े तत्वों के सिर पर हाथ रखकर अपनी मुट्ठी गरम करने में माहिर डी.के. के कार्यकाल में कोयला और खनन माफिया बल्ले-बल्ले कर रहे थे। साथ ही सेवानिवृत्त होने के बाद उनके कुत्ते को मिल रही शासकीय सुविधाए की चर्चा भी खूब सुर्खियों में रही।

“बाबा” के अपराध का लंबा रिकार्ड

शहडोल पुलिस द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में किशोरी लाल चतुर्वेदी उर्फ बाबा द्वारा किए गए अपराध का आपराधिक रिकॉर्ड 13 मई 2024 को जारी किया गया है. जिसमें वर्ष 1979 से लेकर 2022 तक के मामले दिखाए गए हैं. अपराध की दुनिया के बाबा के खिलाफ धारा 13 जुआ एक्ट, 342, 379, 323, 34 ता. हि. 107,116(3) जा.फौ., 110 जा.फौ., 302, 227, 147, 148, 149, 450, 452, 307 ताहि., 279, 294, 147, 353 ता. हि., 41(1-4) जा.फौ., 379 ता. हि., 102 जा.फौ., 3/2 रा.सु.का., 420, 467, 468 ता. हि., 3/7 ई. सी. एक्ट., 113/194 मोटर व्हीकल एक्ट, 379, 34, 120 बी ता. हि., 18/1, 4/21 खनिज अधिनियम लोक सम्पति निवारण अधिनियम की धारा 3(2)5, 304 ता. हि., 3,4 लोक स. क्ष. नि. एक्ट, 447, 506 ता. हि 3/4 मध्यप्रदेश ऋणियो का संरक्षक अधिनियम 1937 के तहत 26 प्रकरण दर्ज हैं।

ये भी पढ़ें...

error: Content is protected !!