होम

Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

कौन काट रहा स्पा सेंटरों की चांदी

जांच हो तो संरक्षण देने वालों के नाम आएंगे सामने

कटनी। स्पा सेंटरों को बेधड़क चलने देने के बदले किस को कितनी राशि देह की इन दुकानों से हासिल हो रही है। यह जांच का विषय है। पुलिस की जांच में यह बिंदु भी शामिल होना चाहिए कि गलत धंधों को संरक्षण के एवज में किसको मुनाफा पहुंचाया जा रहा है। सूत्र बताते हैं कि स्पा सेंटरों में कितना पैसा आया और किसको कितना बांटा गया। यह रिकॉर्ड संचालक के पास लिखित रूप में मौजूद होता है। पुलिस अगर इसकी पड़ताल कर ले तो पूरे नेक्सेस का भंडाफोड़ हो जाएगा। सूत्र बताते हैं कि सारा खेल अनाप-शनाप कमाई के लिए खेला जा रहा है, जिसमें कई ऐसे किरदार भी शामिल हैं जो समाज की नजरों में खुदको प्रतिष्ठित बनाये हुए हैं। इस धंधे को असल मायने में इन्ही का संरक्षण है। सेंटरों में जांच से गुरेज करने वाली पुलिस कई मौकों पर अपनी विवशता इस रूप में जाहिर कर चुकी है कि जांच के दौरान पर्दे के पीछे जो प्रभावशाली नाम सामने आ जाते हैं, उनको सींखचों तक कैसे लाया जाए। पुलिस विभाग में स्पा सेंटरों में जांच का जिम्मा महिला थाने के सुपुर्द किया हुआ है, किन्तु पिछले 5 सालों में केवल माधवनगर के गोल्डन स्पा और बरगवां के हैप्पी स्पा में ही छपे पड़े हैं। बाकी सेंटरों की तो अब तक जांच नही हुई है। सूत्रों का कहना हैं कि स्पा सेंटर संचालक खुद भी जानते है बगैर गलत काम किये मुनाफा नहीं कमाया जा सकता, इसलिए उन्हें बाहरी संरक्षण की आवश्यकता होती है। पुलिस पर जब आरोप बढ़ गए तब हैप्पी स्पा में छापा मारा गया। छापे की कार्यवाही में बहुत कुछ ऐसा है, जिसे सार्वजनिक नही किया गया। सेंटर से जब्त हुए कागजातों में उन लोगों के नाम हो सकते हैं जो इन सेंटरों से महीना बांध चुके थे। एक जानकारी के मुताबिक स्पा सेंटरों और महिला पुलिस के बीच खुले तौर पर दलाली करने वाले ऐसे लोग हैं जिन्हें महीने में मोटी रकम की चाह रहती है। इनकी बारीकी से जांच होना चाहिए।

ये भी पढ़ें...

error: Content is protected !!