होम

Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

भारतीय किसान संघ ने प्रदेश सरकार को दी चेतावनी, घोषणा पत्र में किए वायदे पूरे करे सरकार

*2700 रूपये में गेंहू व 3100 रूपये में धान खरीदी सुनिश्चित करे सरकार*
जबलपुर 15 फरवरी। सरकार द्वारा इस सीजन के लिए गेंहू का घोषित समर्थन मूल्य 2275 रूपये प्रति क्विंटल है। राज्य का बोनस मूल्य 425 रूपये है। जिसे मिलाकर मोदी की गारंटी के नाम पर विधानसभा चुनाव में भाजपा ने 2700 रूपये प्रति क्विंटल गेंहू के दाम किसानों को देने की बात अपने घोषणा पत्र में कही थी। इसी प्रकार धान के समर्थन मूल्य 2100 रूपये पर 1000 बढ़ाकर 3100 रूपये प्रति क्विंटल देने को कहा था। जबकि कांग्रेस ने गेंहू का 2600 रूपये देने कहा था। मोदी की गारंटी के नाम पर किसानों ने भाजपा को वोट दिया और सरकार भी अब बन गई है। मोहन यादव मुख्यमंत्री भी बन गए हैं। अब प्रदेश का अन्नदाता भारतीय किसान संघ के बैनर तले मोदी की गारंटी के नाम पर घोषित गेंहू का 2700 व धान का 3100 रूपये मूल्य लेने के लिए आंदोलन की राह पर चल पड़ा है।
भारतीय किसान संघ के प्रदेश महामंत्री चंद्रकांत गौर ने साफ कहा है कि सरकार ने जो वादा किया है उसे पूरा किया जाए। यह कैसी मोदी की गारंटी है। उन्होंने कहा कि सरकार दुनिया में भारत की अर्थ व्यवस्था को पावरफुल ग्लोबल इकानॉमी होने की बात करती है। मध्यप्रदेश व देश की अर्थव्यवस्था कृषि आधारित है। फिर भी सरकारों के पास किसानों को उनकी उपज का लाभकारी मूल्य देने को पैसा नहीं है। श्री आंजना ने कहा कि गेंहू व धान देश की मुख्य फसलें हैं। वचन पत्र में जो बाते सरकार ने चुनाव के पूर्व प्रदेश के किसानों से कही थी। उसके अनुसार किसानों को गेंहू का 2700 रूपये व धान का 3100 रूपये मूल्य दिया जाए। चाहे एकमुश्त दें या फिर बोनस के रूप में।

*और इंतजार किसान नहीं करेगा*
किसान संघ ने साफ कहा कि प्रदेश का किसान और इंतजार नहीं करेगा। भारतीय किसान संघ के प्रदेश महामंत्री चंद्रकांत गौर ने प्रदेश के तीनों प्रांतों के कार्यकर्ताओं व किसानों के नाम पर पत्र लिखा है। बकौल पत्र में उन्होंने किसानों और कार्यकर्ताओं से कहा है कि प्रदेश सरकार किसानों को धान का 3100 रूपये और गेंहू का 2700 रूपये मूल्य देने के मूड में नहीं है, इसलिए आंदोलन ही एक रास्ता है।

*गांव गांव जनजागरण बैठकें शुरू*
भारतीय किसान संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख राघवेंद्र सिंह पटेल ने जानकारी देते हुए बताया कि
किसान संघ के कार्यकर्ताओ ने गांव गांव जाकर जनजागरण अभियान शुरू कर दिया है। श्री पटेल ने बताया कि चरणबद्ध आंदोलन की रूपरेखा तैयार की गई। पहले जिला मुख्यालयों पर ज्ञापन कार्यक्रम होंगे और मांगे नहीं माने जाने पर बृहद स्तर पर प्रदेश के जिला मुख्यालयों पर धरना प्रदर्शन किया जायेगा। आंदोलन की तिथि शीघ्र किसान संघ घोषित करेगा।

*तीनों प्रांतों में आंदोलन की हो रही तैयारी*
भारतीय किसान संघ के तीनों प्रांतों मालवा, मध्यभारत, महाकौशल प्रांत में किसान संघ के प्रमुख नेता गांव गांव में सदस्यता अभियान के साथ साथ आंदोलन की तैयारी के लिए बैठकें कर रहे हैं। जिसमें शामिल जिला व तहसील के अध्यक्ष मंत्री आंदोलन के विषयों को लेकर ग्राम समिति तक जाकर किसानों को अवगत कराएंगे।

ये भी पढ़ें...

error: Content is protected !!