होम

Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

हत्या के आरोपियों का अवैध निर्माण ध्वस्त करने की मांग

– दीपावली की रात हुए हत्या कांड के पीड़ित परिवारों ने तहसीलदार से की मांग…

शहडोल। संभागीय मुख्यालय में दीपावली की रात्रि हुई जघन्य हत्या की वारदात में मारे गए सीनू लक्ष्मण एवं रिजवान कुरैशी के पीड़ित परिवारों ने तहसीलदार सोहागपुर को एक शिकायत पत्र सौंप कर हत्या के आरोपी परिवार द्वारा किए गए अवैध निर्माण कार्य को तत्काल ध्वस्त कर अपराधियों पर अंकुश लगाए जाने की मांग की है। पीड़ित परिवारों ने अपराधियों के खिलाफ शासन द्वारा की जाने वाली बुलडोजर कार्यवाही का हवाला देते हुए इन आरोपियों के अवैध निर्माण को भी हटाए जाने पर जोर दिया है।
तहसीलदार को सौंप गए ज्ञापन में दोनों मृतकों के पीड़ित परिजनों ने मांग की है। कि दोनों आरोपियों सचिन मोझरकर एवं शेखर मोझरकर दोनों के पिता प्रफुल्ल मोझरकर निवासी वार्ड 23/30 मतनी टोला चांदनी चौक के पास शहडोल द्वारा सीनू लक्ष्मण एवं रिजवान कुरैशी की घर से बुलाकर हत्या कर दिए जाने के कारण प्रशासनिक स्तर पर अपराधीजनों का अवैध निर्माण ध्वस्त कर अपराधी गतिविधियों अंकुश लगाया जाए। ज्ञापन में कहा गया है कि हत्या की वारदात के बाद जिला अस्पताल में उपस्थित जन समूह एवं पीड़ित परिवार द्वारा आरोपियों के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की मांग की गई थी तब उन्हें आश्वासन दिया गया था। कि अपराधीगणों के विरूद्ध निष्पक्ष कार्यवाही प्रशासन की ओर से की जाएगी।

कई मामले हैं दर्ज

पीड़ित परिवार के दोनों मुखिया ने कहा कि तत्समय उपस्थित जनसमूह व पीड़ित परिवार के लोगों के द्वारा बताया गया था कि उपरोक्त दोनों व्यक्ति आदतन अपराधी है। उनके विरूद्ध थाना कोतवाली अथवा न्यायालय में कई आपराधिक प्रकरण पंजीबद्ध होकर विचाराधीन है तथा शहर में भी कई प्रकार के आपराधिक गतिविधियां करते हैं। तथा उनके दहशतगर्दी के चलते आज तक खुला रूप में उनके विरूद्ध किसी प्रकार की शिकायत नहीं कर पाये है।

तो फैलेगी दहशत

शिकायत पत्र में यह भी कहा गया है कि चूंकि उपरोक्त आरोपित के द्वारा बेवजह त्यौहार के दिन घर से बुलाकर मोहल्ला वासियों की मौजूदगी में हत्या की गई है और खुले रूप से धमकी भी दिए है कि हमारे विरुद्ध किसी प्रकार की शिकायत या कोई गवाही दिया तो उनकी भी जान इसी तरह से जायेगी और प्रशासन व पुलिस में हम लोगों की पूरी पकड़ है तुम जैसे लोग हमारा कुछ नहीं बिगाड़ सकते, यदि ऐसे व्यक्तियों के विरुद्ध तत्काल प्रशासनिक कार्यवाही कर ठोस कार्यवाही नहीं की गई तो उनका व उनके परिवार का मनोबल इसी प्रकार आपराधिक गतिविधियों में बढ़ा रहेगा। जिससे मोहल्लेवासियों को दहशतगर्दी में अपना जीवन व्यतीत करना पड़ेगा।

सीएम की है यह मंशा

आवेदन में कहा गया है कि आरोपीगण घटना दिनांक के दूसरे दिन ही गिरफ्तार हो चुके हैं परंतु मुख्यमंत्री के अनुशंसा अनुसार आरोपीगण व उसके परिवार के विरुद्ध प्रशासन की ओर से कोई कठोर कार्यवाही नही की गई है जबकि दिनांक 20/11/2023 के पश्चात् पीड़ित परिजनों को कार्यवाही करने का आश्वासन दिया गया था किन्तु कोई कार्यवाही नहीं हुई है, जबकि आरोपीगणों का जहां पर निवास करते हैं वहां पर अनावश्यक रूप से बलपूर्वक अवैध निर्माण कर काबिज हैं जिसकी जानकारी दिए जाने के बावजूद भी अवैध निर्माण मुख्यमंत्री के मंशानुरूप आज दिनांक तक नहीं हटाया गया है जिसे हटाने बावत् मोहल्लेवासी व पीड़ित परिवारजन प्रशासन से मौखिक रूप से मिलकर निवेदन कर चुके हैं। उस पर हटाये जाने हेतु त्वरित निष्पक्ष कार्यवाही होनी चाहिए थी वह अब तक नहीं हो पाई है, जबकि प्रदेश के शिवपुरी में भी ऐसी ही जघन्य हत्याकांड की घटना हुई जिस पर आचार संहिता लगे होने के बावजूद आरोपीगण के विरूद्ध त्वरित प्रशासनिक कार्यवाही कर उनके अवैध निर्माण को ध्वस्त किया गया।

अवैध कब्जा और निर्माण हटे

पीड़ित परिवारजन ने शासन के स्वच्छ समाज के निर्माण की मंशा के अनुरूप जिला प्रशासन से अपेक्षा की हैं कि इस जघन्य हत्याकांड को गंभीरता से लेते हुए हत्यारोपियों के द्वारा बलपूर्वक किए गए अवैध निर्माण कार्य को ध्वस्त किए जाने एवं पीड़ित पक्षकारों को समय न्याय प्रदान बलपूर्वक किया की जाय ताकि भविष्य में किसी भी परिवार के साथ ऐसी घटना को कोई अन्य व्यक्ति न करे।

ये भी पढ़ें...

error: Content is protected !!