होम

Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

देश से एक्स पर महिलाओं के प्रति रोजाना लाखों द्वेषपूर्ण पोस्ट – अध्ययन

न्यूयॉर्क

 देश में लैंगिक हिंसा के एक चौंकाने वाले अध्ययन के अनुसार, भारतीय रोजाना सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर महिलाओं के प्रति 'लाखों' की संख्‍या में द्वेषपूर्ण पोस्ट करते हैं।अध्ययन में महिलाओं के प्रति ऑनलाइन द्वेष को छह वृहत वर्गों में परिभाषित किया गया है – यौन दुर्व्यवहार, यौन वस्तुकरण, महिलाओं को शारीरिक या यौन रूप से नुकसान पहुंचाने की धमकी, महिलाओं की हीनता पर जोर देना, महिलाओं के खिलाफ हिंसा को उचित ठहराना और नारीवादी प्रयासों को खारिज करना।

यूनिसेफ और अमेरिका के सैन डिएगो स्थित कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने दिखाया कि ऑफ़लाइन दुनिया की तरह, महिलाओं को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर भी बढ़ती लैंगिक असमानताओं का सामना करना पड़ता है।

पीएलओएस वन जर्नल में प्रकाशित अध्ययन में पाया गया है कि भारत में एक्स पर ऑनलाइन स्त्री द्वेष प्रचलित है।इसने महामारी से पहले के रुझानों की तुलना में, कोविड-19 की शुरुआत के बाद पूर्ण मात्रा के साथ-साथ स्त्री-द्वेषी ट्वीट्स के अनुपात में उल्लेखनीय वृद्धि देखी।शोधकर्ताओं ने कहा, "2018 और 2021 के बीच कुल दैनिक ट्वीट्स में से लगभग दो प्रतिशत में किसी न किसी रूप में स्त्री-द्वेषी सामग्री शामिल थी।"हालाँकि यह संख्या में कम लग सकती है, लेकिन यह "हर दिन लाखों की संख्‍या है, यह देखते हुए कि औसतन रोजाना लगभग 20 अरब पोस्ट किए जाते हैं"।

शोध पत्र में कहा गया है, "हमारा अध्ययन भारत में लिंग अनुसंधान के लिए ऑनलाइन स्त्री-द्वेष पर एक विषय के रूप में ध्यान आकर्षित करता है – एक ऐसा देश जहां इंटरनेट का उपयोग बढ़ रहा है और लिंग आधारित हिंसा के ऑफ़लाइन रूप अत्यधिक प्रचलित हैं।"टीम ने भारत से पोस्ट किए गए ट्वीट्स के एक छोटे उपसमूह (40,672 ट्वीट्स) का गुणात्मक विश्लेषण किया।इसके बाद 2018 और 2021 के बीच भारत से पोस्ट किए गए तीन करोड़ ट्वीट्स में स्त्री द्वेष की स्थिति का अनुमान लगाने के लिए पर्यवेक्षित मशीन लर्निंग मॉडल का उपयोग किया गया।इसके बाद, बाधित समय श्रृंखला विश्लेषण ने कोविड-19 से पहले और उसके दौरान ऑनलाइन स्त्री-द्वेष की व्यापकता में बदलाव की जांच की।

शोधकर्ताओं ने कहा, "निष्कर्ष महामारी के बाद से ट्विटर पर बढ़ती लिंग असमानताओं को उजागर करते हैं। महिलाओं को लक्षित करने वाले आक्रामक और घृणास्पद ट्वीट पारंपरिक लैंगिक मानदंडों को मजबूत करने का प्रयास करते हैं, विशेष रूप से आदर्श यौन व्यवहार और महिलाओं को यौन प्राणी के रूप में प्रस्तुत करने से संबंधित।"शोधकर्ताओं ने "डिजिटल स्थानों को लैंगिक रूप से न्यायसंगत और महिलाओं के लिए स्वागत योग्य बनाने के लिए भविष्य में अनुसंधान और हस्तक्षेप के विकास की तत्काल आवश्यकता" का आह्वान किया।

ये भी पढ़ें...

error: Content is protected !!