होम

Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

14 घंटे के अंदर 800 बार आया भूकंप, देश में लगानी पड़ी इमरजेंसी… कहां की है घटना?

ग्रीनविच

यूरोपीय देश आइसलैंड (Iceland) में 14 घंटे के अंदर 800 बार भूकंप के झटके महसूस किये गए. इस आपदा के बाद देश में इमरजेंसी लगा दी गई है. आइसलैंज के सिविल प्रोटक्शन और इमरजेंसी मैनेजमेंट डिपार्मेंट ने एक बयान में नागरिकों को चेतावनी देते हुए कहा, ‘ऐसी आशंका है कि इससे भी तगड़े भूकंप के झटके लग सकते हैं और बड़ी तबाही का सबक बन सकते हैं. इसलिए सबको सावधान रहने की जरूरत है…’

मौसम विभाग ने क्या-क्या बताया?
उधर, आइसलैंड के मौसम विभाग ने भी ठीक इसी तरह की चेतावनी जारी की है. आइसलैंडिंक मेट्रोलॉजिकल डिपार्टमेंट ने कहा है कि आने वाले कुछ दिनों में इस तरह की कई आपदाएं आ सकती हैं. इसको देखते हुए खास सावधानी बरतने की आवश्यकता है.

5.2 तीव्रता का भूकंप
आपको बता दें कि शुक्रवार को करीब 5:30 बजे राजधानी रेकजाविक से लगभग 40 किलोमीटर दूर भूकंप के तगड़े महसूस किए गए. फिर दक्षिणी तट पर भी इस तरह के झटके महसूस किए गए. भूकंप इतना तेज था कि कई मकानों की खिड़की तक दरक गई. AFP की एक रिपोर्ट के मुताबिक आइसलैंड के मौसम विभाग ने बताया कि सबसे तगड़ा झटका रेक्टर स्केल पर 5.2 तीव्रता का था.

ग्रीनविच जाने वाली सड़क बंद
नागरिक सुरक्षा और आपातकालीन प्रबंधन विभाग के मुताबिक सर्वाधिक प्रभावित इलाका ग्रिनविच का है. भूकंप के चलते यहां की सड़कों में भी दरार आ गई है. इसलिये पुलिस ने ग्रीनविच जाने वाली सड़क बंद कर दी है. राष्ट्रीय पुलिस प्रमुख ने कहा कि तीव्र भूकंप के कारण नागरिकों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए आपातकाल (Emergency) लगाई जा रही है.

भीषण भूकंप आने की संभावना

देश के नागरिक सुरक्षा और आपातकालीन प्रबंधन विभाग ने कहा कि राष्ट्रीय पुलिस प्रमुख ने ग्रिंडाविक के उत्तर में सुंधनजुकागिगर में भूकंप की श्रृंखला के बाद आपातकाल की घोषणा की गई है. इसके साथ ही प्रशासन ने चेतावनी दी है कि आने वाले समय में पहले से ज्यादा भीषण भूकंप आने का भी खतरा है. इन भूकंप की घटनाओं के बाद यह शृंखला बड़े ज्वालामुखी विस्फोट का कारण भी बन सकती है.

बड़े ज्वालामुखी विस्फोट की आशंका

इसी के साथ आइसलैंड के मौसम कार्यालय (IMO) ने कहा कि आने वाले कुछ दिनों में बड़ा ज्वालामुखी विस्फोट हो सकता है. बताया जा रहा है कि जहां शुक्रवार को 800 से ज्यादा बार भूकंप आया वहां से लगभग तीन किमी दूर दक्षिण-पश्चिम में स्थित ग्रिंडाविक नाम का एक गांव है. इस गांव में करीब 4000 लोग रहते हैं. ऐसे में अगर यहां ज्वालामुखी विस्फोट होता है तो इस गांव के लोगों को तुरंत निकालना पड़ेगा. प्रशासन ने गांव के लोगों को निकालने के लिए तैयारियां भी पूरी कर ली हैं. बता दें कि कल यानी शुक्रवार को आइसलैंड की राजधानी रिक्जेविक से लगभग 40 किलोमीटर दूर भी भूकंप के दो तेज झटके महसूस किए गए.

अक्टूबर से अब तक महसूस किए गए 24 हजार से ज्यादा झटके

आइसलैंड के मौसम कार्यालय के मुताबिक, राजधानी रिक्जेविक के उत्तर में आए भूकंप के सबसे तेज झटके की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 5.2 मापी गई. इन भूकंप से उत्तर-दक्षिण से ग्रिंडाविक तक जाने वाली सड़क क्षतिग्रस्त हो गई, जिसे पुलिस ने बंद कर दिया है. जानकारी के मुताबिक, आइसलैंड में अक्टूबर के अंत से लेकर शुक्रवार तक करीब 24,000 झटके महसूस किए गए. आईएमओ ने कहा है कि पांच किलोमीटर की गहराई में मैग्मा के जमा हो रहा है. भूकंप के झटके के बाद इसके सतह की ओर बढ़ने का खतरा मंडरा रहा है और इसमें कभी भी विस्फोट हो सकता है.

ये भी पढ़ें...

error: Content is protected !!