होम

Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

पुलिस का एक्शन : नकली उर्वरक बनाने वाले के खिलाफ एफआईआर

शिवपुरी
 मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले में किसानों को खाद की कमी की शिकायत के बाद जिला प्रशासन ने दो उर्वरक विक्रेताओं की दुकानें सील की हैं जबकि एक विक्रेता पर कालाबाजारी को लेकर एफआईआर दर्ज कराई गई है। जिला प्रशासन के अधिकारियों ने बताया है कि कुछ खाद विक्रेता झूठी कमी दिखाकर इसका फायदा उठाने की कोशिश में थे लेकिन प्रशासन ने शिकायत मिलने के बाद कार्रवाई की है।

कृषि विभाग के उपसंचालक यूएस तोमर ने बताया कि करैरा क्षेत्र के छितीपुर में नकली खाद को अधिक दाम में बेचने के आरोप में एक व्यक्ति आशिक रजक पर एफआईआर दर्ज कराई गई है। जबकि करैरा के ही विक्रेता मयूर गैंडा और गुप्ता ब्रैदर्स का केंद्र सील करने की कार्रवाई की गई। इसके साथ ही फर्टिलाइजर सेलिंग केंद्रों का निरीक्षण किया जा रहा है।

किसानों ने की थी नारेबाजी

करैरा में खाद की कमी को लेकर मंडी स्थित वितरण केंद्र पर किसानों ने यहां पर नारेबाजी की थी। किसानों का कहना था कि उन्हें खाद नहीं मिल रहा है। किसानों का कहना था कि करैरा अनाज मंडी में वितरण केंद्र पर अव्यवस्था का माहौल है यहां पर अलसुबह से ही केंद्र पर किसान आ जाते हैं लेकिन घंटों लाइन में लगने के बाद भी खाद नहीं मिलता। वहीं दूसरी ओर प्राइवेट दुकानदान महंगे दामों में खाद बेच रहे हैं।

अधिकारियों बोले- कोई कमी नहीं है

कृषि विभाग से जुड़े अधिकारियों ने बताया कि शिवपुरी में खाद की कोई कमी नहीं है। जिले में 15 सहकारी समितियों को भी डीएपी दिया जा रहा है। डिफाल्टर किसान गांव से उर्वरक ले सकते है। उप संचालक कृषि ने बताया कि जिले में 10 नवम्बर की स्थिति में 7811 मीट्रिक टन यूरिया, 4611 मीट्रिक टन डीएपी, 4072 मेट्रिक टन एनपीके तथा 9074 मेट्रिक टन एसएसपी स्टोर है। करैरा मण्डी में बड़ी संख्या में किसानों के आने से 01 अतिरिक्त नवीन उर्वरक विक्रय केन्द्र की स्थापना की जा रही है।

ये भी पढ़ें...

error: Content is protected !!