होम

Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

हमास जंग का बदल रहा रंग, इजरायल ने दी 4 घंटे की मोहलत,15000 फिलिस्तीनियों को रास्ता

तेल अवीव

इजरायल-हमास जंग का आज 34वां दिन है। इजरायली सुरक्षा बलों ने दावा किया है कि उसने अब तक हमास के 130 सुरंगों को ध्वस्त कर दिया है। इस बीच, हजारों फिलिस्तीनियों को उत्तरी गाजा से निकलकर दक्षिण की तरफ शरण लेने के लिए पैदल ही जाते देखा गया। ये लोग हाथों में सफेद झंडे लहराते हुए शरण की तलाश में दक्षिण गाजा की ओर बढ़ रहे थे। हालांकि, दक्षिणी गाजा में भी अब हालात सामान्य नहीं रह गए हैं क्योकि इजरायली सुरक्षा बलों ने पूरे क्षेत्र को हवाई हमलों से घेर लिया है।

इजरायल ने दिखाई नरमी
संयुक्त राष्ट्र ने बुधवार को कहा कि करीब 15,000 फिलिस्तीनियों ने गाजा की मुख्य सड़क सलाह अल-दीन रोड का उपयोग करके पैदल ही उत्तरी गाजा से दक्षिण की ओर जा चुके हैं। यह सोमवार को अनुमानित आंकड़े से तीन गुना है। ऐसा तब संभव हुआ है, जब इजरायली फौजों ने बुधवार को नरमी दिखाते हुए बमबारी में चार घंटे की मोहलत दी ताकि उत्तरी गाजा के निवासी वहां से निकल सकें। चार घंटे तक बमाबारी रोकना इजरायल के रुख में आई नरमी का संकेत है।

हर चौक, हर बिल्डिंग पर कब्जा
अल जजीरा की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि चल रहे सैन्य अभियान के लिए जानकारी प्राप्त करना मुश्किल है, लेकिन गाजा के स्थानीय निवासियों का कहना है कि अब इजरायली सैनिकों ने सभी इमारतों और चौकियां पर कब्जा कर लिया है। इजरायली सुरक्षा बलों ने कहा है कि अब उत्तरी गाजा में सिर्फ एक लाख लोग रह गए हैं, जबकि वहां की आबादी करीब 10 लाख है।

इजरायली सेना ने कहा है कि उत्तरी गाजा में अब हमास के बुनियादी ढांचे ध्वस्त हो चुके हैं और उस पर शिकंजा कस चुका है। IDF के मुताबिक, उसकी जमीनी सेना ने गाजा शहर को घेर लिया है और फिलिस्तीनी समूहों के लड़ाकों के साथ झड़पें कर रही हैं। उधर, फिलिस्तीनियों का कहना है कि गाजा पट्टी का कोई भी कोना अब इजरायली बमबारी से सुरक्षित नहीं रह गया है।

इन हमलों की वजह से गाजा के 23 लाख निवासियों में से 70 फीसदी से अधिक लोग विस्थापित हो चुके हैं। वे अब शरणार्थी शिविरों में रहने को मजबूर हैं, जहां खाने-पीने से लेकर,दवा, बिजली तक का घोर अभाव है। गाजा के स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, इजरायल की लगातार बमबारी में अब तक 10,569 से अधिक लोग मारे गए हैं, जिनमें 4,324 बच्चे भी शामिल हैं।

इजरायल का बदल रहा युद्ध चरित्र
इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू कहते रहे हैं कि वह तब तक गाजा पट्टी में सीजफायर नहीं करेंगे जब तक कि हमास सभी बंधकों को रिहा नहीं कर देता। हालांकि, वैश्विक दबाव और अमेरिकी दबाव पर इजरायल न सिर्फ हमास संग कतर की मध्यस्थता में बातचीत कर रहा है बल्कि युद्ध में मानवीय ठहराव पर भी तैयार हो चुका है। इसी क्रम में बुधवार को चार घंटे की मोहलत दी गई, ताकि फिलिस्तीनी नागरिक उत्तरी गाजा पट्टी से सुरक्षित निकल सकें। दूसरी, तरफ हमास के आतंकी ठिकानों पर इजरायली फौजों ने आक्रमण और तेज कर दिए हैं।

ये भी पढ़ें...

error: Content is protected !!