होम

Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

सरकार ने बढ़ाई अरहर और उड़द दाल की स्टॉक लिमिट

सरकार ने बढ़ाई अरहर और उड़द दाल की स्टॉक लिमिट

नई दिल्ली

केंद्र सरकार ने अरहर और उड़द दाल पर लागू स्टॉक लिमिट में संशोधन किया है। सरकार ने इन दोनों दालों पर मौजूदा स्टॉक लिमिट को बढ़ा दिया है। इस संबंध में सरकार ने अधिसूचना जारी कर दी है। जिसके मुताबिक संशोधित स्टॉक लिमिट तत्काल प्रभाव से लागू होगी।

सरकार ने थोक कारोबारियों को अब प्रत्येक दाल का 200 टन स्टॉक रखने की इजाजत दी है। पहले ये कारोबारी 50 लाख टन दाल रख सकते थे। खुदरा दाल कारोबारियों को दोनों दालों में से प्रत्येक का 5 टन स्टॉक रखने की अनुमति होगी। इसमें कोई बदलाव नहीं किया गया। बड़ी श्रृंखला वाले खुदरा विक्रेता (बिग चेन रिटेलर) प्रत्येक खुदरा आउटलेट पर प्रत्येक दाल का 5 टन स्टॉक रख सकते हैं, जबकि डिपो या वेयर हाउस में दाल रखने की लिमिट 200 टन होगी।

पहले डिपो पर दाल रखने की लिमिट 50 टन थी। मिलर पिछले 3 महीने के उत्पादन का या वार्षिक क्षमता का 25 फीसदी इनमें जो भी ज्यादा हो दाल का स्टॉक रख पाएंगे। पहले मिलर के लिए यह स्टॉक लिमिट एक महीने के उत्पादन या वार्षिक क्षमता का 10 फीसदी थी। आयातक इन दालों का स्टॉक कस्टम क्लीयरेंस के 60 दिनों तक रख सकेंगे।

पहले आयातक 30 दिन तक की दाल रख सकते थे। अगर किसी कारोबारी के पास इस तय स्टॉक लिमिट से ज्यादा स्टॉक है तो वे उपभोक्ता मामले विभाग के पोर्टल पर सूचित करेंगे कि वे इस अधिसूचना के जारी होने के 30 दिन के भीतर स्टॉक को निर्धारित लिमिट तक लाएंगे। दाल कारोबारियों को विभाग के पोर्टल पर स्टॉक की नियमित घोषणा करनी होगी।
दालों की महंगाई थामने लगी थी स्टॉक लिमिट
केंद्र सरकार ने बढ़ती दालों की कीमतों को नियंत्रित करने के लिए अरहर व उडद दालों पर स्टॉक लिमिट लगाई थी। सरकार ने सितंबर महीने में अरहर व उड़द दाल पर स्टॉक लिमिट को घटा दिया था। अब सरकार ने फिर से इस लिमिट को बढ़ा दिया है। पहले स्टॉक लिमिट 30 अक्टूबर तक के लिए प्रभावी थी। इसे भी हाल में बढाकर 31 दिसंबर तक के लिए प्रभावी कर दिया गया है।

डीजीसीए ने एयर इंडिया को जारी किया कारण बताओ नोटिस, जानें क्या है पूरा मामला

नई दिल्ली

यात्री हितों की सुरक्षा के प्रति अपने अटूट समर्पण का संकेत देते हुए विमानन निगरानी संस्था डीजीसीए ने यात्री-केंद्रित नियमों का अनुपालन न करने पर एयर इंडिया को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, डीजीसीए ने उड़ान में व्यवधान के दौरान यात्री देखभाल के उच्च मानक प्रदान करने के महत्व पर लगातार जोर दिया है, जिसमें बोर्डिंग से इनकार, उड़ान रद्दीकरण और देरी भी शामिल है।

अधिकारी ने कहा, इन नियमों को प्रभावी ढंग से लागू करने के लिए डीजीसीए ने 2010 में सीएआर सेक्शन-3, सीरीज एम भाग 4 शीर्षक से यात्रियों को बोर्डिंग से इनकार, उड़ान रद्द होने और उड़ानों में देरी के कारण एयरलाइंस द्वारा प्रदान की जाने वाली सुविधाओं की घोषणा की थी। नियमों को समय-समय पर संशोधित किया जाता रहा है।

मई 2023 से नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) इन यात्री-केंद्रित नियमों के लिए एयरलाइनों के पालन को सुनिश्चित करने के लिए प्रमुख हवाईअड्डों पर अनुसूचित घरेलू एयरलाइनों का निरीक्षण कर रहा है। अधिकारी ने कहा, इन निरीक्षणों के दौरान यह देखा गया कि एयर इंडिया सीएआर के प्रावधानों का पूरी तरह से अनुपालन नहीं कर रही थी। नतीजतन, एयर इंडिया को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है और उसे एयरलाइन को नियमों का अनुपालन न करने के बारे में स्पष्टीकरण देने और सुधारात्मक कार्रवाई करने के लिए कहा गया है।

इसी तरह के निरीक्षण पिछले साल भी प्रमुख हवाईअड्डों पर किए गए थे और नियमों के उल्लंघन पर एयर इंडिया को यात्रियों के अस्वीकृत बोर्डिंग पर सीएआर के प्रावधानों के साथ एयर इंडिया द्वारा इसी तरह के गैर-अनुपालन के आधार पर 10,00,000 रुपये (दस लाख रुपये) का जुर्माना लगाया गया था।

मेटा क्रिएटर्स के लिए फेसबुक और इंस्टाग्राम पर ला रहा पैसे कमाने के कई और नए तरीके

सैन फ्रांसिस्को

क्रिएटर्स को लुभाने के लिए मेटा ने फेसबुक और इंस्टाग्राम पर कई प्रोडक्ट्स पर नए अपडेट पेश किए हैं ताकि उन्हें पैसा कमाने में मदद मिल सके। कंपनी अमेरिका, साउथ कोरिया और जापान में क्रिएटर्स के लिए इंस्टाग्राम पर नए 'इनवाइट-ओनली हॉलिडे बोनसÓ की टेस्टिंग कर रही है।

मेटा ने एक ब्लॉगपोस्ट में कहा, हॉलिडे बोनस रील्स और फ़ोटो के जरिए अपनी क्रिएटिविटी शेयर करने के लिए क्रिटर्स को रिवॉर्ड देगा। इस नए बोनस की टेस्टिंग करने के लिए चुनिंदा क्रिएटर्स को आमंत्रित किया गया है। मेटा ने घोषणा की, अब इंस्टाग्राम सब्सक्रिप्शन के जरिए क्रिएटर्स के पास दस लाख से ज्यादा एक्टिव सब्सक्रिप्शन हैं। प्रोग्राम के लॉन्च के एक साल के भीतर इंस्टाग्राम ने दस लाख का आंकड़ा पार कर लिया। यह प्रोग्राम भारत सहित 35 से अधिक देशों में उपलब्ध है।

क्रिएटर्स को अपने सब्सक्राइबर्स कम्युनिटी को बढ़ाने में मदद करने के लिए, मेटा ने नए प्रोमोशनल टूल्स पेश किए हैं, जो आपके फॉलोअर्स द्वारा फीड में आपके कंटेंट देखने पर सब्सक्राइब बटन की सुविधा प्रदान करते हैं और आपके लिए डीएम और स्टोरीज के जरिए नए सब्सक्राइबर्स का वेलकम करना आसान बनाते हैं। फेसबुक पर, टेक दिग्गज फॉलोअर्स के लिए सब्सक्राइब लेने के और तरीके जोड़ रहा है, जैसे कि आपकी रील्स और स्टोरीज के जरिए और क्रिएटर्स को अपने फैंस को फ्री 30 दिन का सब्सक्रिप्शन ट्रायल की पेशकश करने की क्षमता दे रहा है।

मेटा ने कहा, हम मूल्य निर्धारण पर अधिक नियंत्रण भी लागू कर रहे हैं, ताकि निर्माता समय के साथ अपनी सब्सक्रिप्शन की कीमत बदल सकें। इसके अलावा, कंपनी इंस्टाग्राम स्टोरीज बनाते समय अतिरिक्त विज्ञापन पात्रता जानकारी दिखाकर उन क्रिएटर्स के लिए विज्ञापनों में भाग लेना आसान बना रही है, जो ब्रांडेड कंटेंट और पार्टनरशिप विज्ञापनों पर ब्रांड पार्टनर्स के साथ काम करते हैं।

कंपनी ने कहा कि अगर कोई क्रिएटर स्टोरी बनाते समय अलाउ ब्रांड पार्टनर टू बूस्ट को सलेक्ट करता है, तो उन्हें अपने कंटेंट में विज्ञापन पात्रता त्रुटियों को संबोधित करने के लिए प्रेरित किया जाएगा।

 

 

ये भी पढ़ें...

error: Content is protected !!