होम

Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

हरिगढ़ होगा अलीगढ़ का अब नया नाम, जल्द बदलेगा नाम… नगर निगम में प्रस्ताव हुआ पास

अलीगढ़
उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले का नाम बदलकर हरिगढ़ करने के प्रस्ताव को नगर निगम की बैठक में सभी पार्षदों ने सर्वसम्मति से मंजूरी दे दी है। अब इस प्रस्ताव को आगे शासन को भेजे जाने की तैयारी है।

महापौर प्रशांत सिंघल ने कहा- कल बैठक में एक पार्षद संजय पंडित द्वारा एक प्रस्ताव अलीगढ़ को हरिगढ़ करने का रखा गया था। जिसको सर्वसम्मति से सभी पार्षदों ने पास करा दिया। अब इसे आगे शासन को जल्द ही भेजा जाएगा। मुझे उम्मीद है कि बहुत जल्द शासन इसे संज्ञान में लेकर अलीगढ़ के नाम को हरिगढ़ करने की हमारी मांग को पूरी करेगा।"

केशव प्रसाद ने दिए थे नाम बदलने के संकेत

बता दें 21 अगस्त को उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने अलीगढ़ जिले का दौरा किया किया था। उस दौरान ही उन्होंने अलीगढ़ का नाम बदलने के संकेत दे दिए थे। भाषण के दौरान उन्होंने जय श्री राम और कल्याण सिंह बाबू जी अमर रहें के नारे लगाए। इसी दौरान उन्होंने एक बार बोला कि अरे हरिगढ़ वालो, तेज आवाज में बोलो जय श्रीराम। इस पर सभा में मौजूद लोगों ने तेज आवाज में नाराज बुलंद किया।

11 घंटे चली नगर निगम की बैठक

अलीगगढ़ नगर निगम बोर्ड की पहली बैठक करीब 11 घंटे तक चली। इस बैठक में जमकर हंगामा हुआ। नगर निगम की कार्यप्रणाली से गुस्साए पार्षदों ने जमकर हंमामा किया। पार्षदों के सवालों का जवाब अधिकारी नहीं दे पाए। जलकल, विज्ञापन, रोड लाइट, स्वास्थ्य, निर्माण और उद्यान विभाग में अनियमितता व्यवस्था होते हैं। नगर आयुक्त की ओर से बैठक में होर्डिंग और जलकल विभाग में अनियमितता के लिए जांच कमिटी गठित करने का निर्देश दिया। इस कमिटी में पार्षदों को भी शामिल होंगे। बैठक की अध्यक्षता मेयर प्रशांत सिंघल ने की। इसमें नगर आयुक्त अमित आसेरी, अपर नगर आयुक्त रितु पुनिया एवं राकेश कुमार यादव और सीटीओ अशोक सिंह मुख्य रूप से मौजूद रहे।
 

नगर निगम बोर्ड में आया सुझाव

नगर निगम की बोर्ड की पहली ही बैठक के दौरान बीजेपी पार्षद संजय पंडित की ओर से अलीगढ़ का नाम बदलने का प्रस्ताव रखा गया। संजय पंडित ने जैसे ही यह प्रस्ताव रखा, नगर निगम बोर्ड की बैठक में हंगामा मच गया। विपक्षी पार्षदों की ओर से इस पर हंगामा किया जाने लगा। वहीं, भाजपा पार्षदों ने मेज थपथपाकर इस प्रस्ताव का स्वागत किया। बैठक में भाजपा पार्षदों ने प्रस्ताव पर अपनी सहमति जताई। इसके बाद इसे पास कर दिया गया। अब नगर निगम बोर्ड के पास प्रस्ताव को सरकार को भेजा जाएगा। योगी आदित्यनाथ सरकार नगर निगम बोर्ड से पास प्रस्ताव को लागू कर अलीगढ़ का नाम हरिहरगढ़ कर सकती है।

ये भी पढ़ें...

error: Content is protected !!