होम

Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

प्रशांत अग्रवाल को पुलिस अधीक्षक पद से हटाने भाजपा ने सौंपा चुनाव आयोग को ज्ञापन

रायपुर

छत्तीसगढ़ के वर्तमान मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस नेता भूपेश बघेल एवं रायपुर जिला पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल की महादेवा बेटिंग (सट्टेबाजी) एप के संगठित अपराध में संलिप्तता उजागर होने के बाद भारतीय जनता पार्टी के पूर्व मंत्री चंद्रशेखर साहू, चुनाव आयोग संपर्क समिति के डा. विजय शंकर मिश्रा व रायपुर सांसद सुनील सोनी ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी छत्तीसगढ़ से मिलकर प्रशांत अग्रवाल को चुनाव के दौरान पुलिस अधीक्षक रायपुर के पद से हटाने की मांग की।

शिकायत पत्र में भाजपा पदाधिकारियों ने चुनाव आयोग को बताया कि 05 नवंबर 2023 को वेब न्यूज पोर्टल डेली हंट में शुभम सोनी नमक व्यक्ति की खबर प्रसारित हुई जिसके अनुसार सुभम सोनी के द्वारा स्वयं को महादेवा बेटिंग एप का मालिक बताते हुए छत्तीसगढ़ के वर्तमान मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस नेता श्री भूपेश बघेल को उक्त एप के संचालन का नियंत्रण रायपुर पुलिस अधीक्षक श्री प्रशांत अग्रवाल के माध्यम से किया जाना तथा कई बार हफ्ते / प्रोटेक्शन मनी के रूप में भारी धन राशि वसूल करने कि बात एक वायरल वीडियो के द्वारा उजागर की गयी है।

उल्लेखनीय है कि महादेवा एप एक अवैध बेटिंग (सट्टेबाजी) का एप है जिसका संचालन पहले भिलाई छत्तीसगढ़ से तथा बाद में दुबई से भारत में किया जा रहा था । इस एप के जरिये आप जनता से उसकी परिश्रम कि कमाई लूटकर व्यापक मात्रा में धन कि हेरा-फेरी हो रही थी। महादेवा एप के प्रकरण में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के द्वारा पूर्व से एफआईआर दर्ज कर जांच की जा रही है। उपरोक्त खबर के अनुसार वर्तमान मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस नेता श्री भूपेश बघेल एवं रायपुर जिला पुलिस अधीक्षक श्री प्रशांत अग्रवाल इस संगठित अपराध में सीधे सम्बंधित पाए गए हैं। उक्त घटना यह स्पष्ट करती है कि उनकी कांग्रेस पार्टी के शीर्ष नेतृत्व से उपरोक्त प्रकृति के सम्बंध रहे हैं इस स्थिति में रायपुर पुलिस अधीक्षक श्री प्रशांत अग्रवाल द्वारा चुनाव में निष्पक्ष कार्य की अपेक्षा नहीं की जा सकती है। पूर्व में भी श्री प्रशांत अग्रवाल द्वारा चुनाव कार्य में पक्षपात पूर्ण कार्य करने की शिकायतें कि गयी थी। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से प्रशांत अग्रवाल को रायपुर जिला पुलिस अधीक्षक से त्वरित रूप से हटाये जाने की मांग की।

ये भी पढ़ें...

error: Content is protected !!